चाणक्य कहते है

chanakya-niti1_f

चाणक्य कहते है
साम, दाम, दण्ड, भेद
साम :- अपने शत्रु को समझायो
दाम :- अपने शत्रु को लालच दो
दण्ड:- अपने शत्रु को अपना डर दिखाओ,
भेद:- अपने शत्रु में फूट डालो,

चाणक्य कहते है  साम, दाम, दण्ड, भेद इन चारो का परिस्तिथि अनुसार उपयोग करो.! लेकिन विजय आपकी ही होनी चाहिए.!

शक्तिशाली लोगों के लिए कौनसा कार्य कटीं है ? व्यापारिओं के लिए कौनसा जगह दूर है, विद्वानों के लिए कोई देश विदेश नहीं है, मधुभाषियों का कोई शत्रु नहीं.

राजा लोग अपने आस पास अच्छे कुल के लोगो को इसलिए रखते है क्योंकि ऐसे लोग ना आरम्भ मे, ना बीच मे और ना ही अंत मे साथ छोड़कर जाते है.

जिस तरह सारा वन केवल एक ही पुष्प अवं सुगंध भरे वृक्ष से महक जाता है उसी तरह एक ही गुणवान पुत्र पुरे कुल का नाम बढाता है.

जिस प्रकार केवल एक सुखा हुआ जलता वृक्ष सम्पूर्ण वन को जला देता है उसी प्रकार एक ही कुपुत्र सरे कुल के मान, मर्यादा और प्रतिष्ठा को नष्ट कर देता है.

कुल की रक्षा के लिए एक सदस्य का बिलदान दें,गाव की रक्षा के लिए एक कुल का बिलदान दें, देश की रक्षा के लिए एक गाव का बिलदान दें, आतमा की रक्षा के लिए देश का बिलदान दें.

ऐसे अनेक पुत्र किस काम के जो दुःख और निराशा पैदा करे. इससे तो वह एक ही पुत्र अच्छा है जो समपूणर घर को सहारा और शान्ति पर्दान  करे.

This Post Has One Comment

  1. nice

Leave a Reply

Close Menu