नीति श्लोक in Hindi

अक्रोधना धर्मपरा:, सत्यनित्या दमे रताः|
तादृशा: साधवो विप्रास्तेभ्यो दत्तं महाफलम् ||

In Hindi : जो क्रोध पर विजय पाने वाले, धर्मपरायण, सदा सत्य का ही आश्रय लेने वाले और मन को वश में रखने वाले श्रेष्ठ जन हैं,

उनको दिया हुआ दान ही महान लाभप्रद होता है|

Those who win over anger, Dharmaparayan, are the best people who take shelter of the truth and keep the mind in control,

The donation given to them is of great benefit.

Leave a Reply

Close Menu