कबीर के दोहे अर्थ सहित: Kabir ke  Dohe in Hindi

कबीर के दोहे अर्थ सहित: Kabir ke Dohe in Hindi

साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।

अर्थ : इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है. जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे.

 

The saint should do so, as the soup is sweet, the essence of the essence is buried, the thieves give up.

Meaning: the world needs such gentlemen as grain is clear soup. Those who will save the meaning and blow the nonsense.

Leave a Reply

Close Menu